जैसे best friend, वैसे ही Mentor! By Aslam

Hi! नाम तो सुने ही होंगे आपने, असलम और ध्रुव | हम आगाज़ में सबसे ज्यादा मस्ती करने वाले Mentor और Mentee है ! में पहली बार ध्रुव से वहाँ मिला जहां मैं बचपन से पढ़ते आ रहा था, निजामुद्दीन के MCD स्कूल में | मुझे तब बहुत nervous feel हो रहा था क्योंकि मैंने कभी भी किसी Mentor के साथ काम नहीं किया था |

लगभग एक साल से हम बहुत बार मिले है और बहुत सारा सा काम भी किया है | ध्रुव पहले बहुत शांत रहते थे और ध्रुव के साथ मैं इतना friendly नहीं हो पा रहा था | पर धीरे-धीरे जैसी ही मेरी पढ़ाई पर काम चालू होने लगा वैसे हम बहुत friendly होते चले गए और अब हम बहुत ही अच्छे दोस्त है |

कई बार हम घूमने भी निकल जाते है, कभी हुमांयू का मकबरा तो कभी निजामुद्दीन का छतरी वाला park और कभी कभी हम C-5 में भी मिल लेते है (पहले B-5 यानि अनहद के office में मिलते थे) | ध्रुव ने मुझे मेरी आदतों पर काफी ध्यान देना सिखाया है, एक दर्पण या आईना जैसे | मैंने और ध्रुव ने एक दूसरे के साथ बहुत कुछ share किया है |

मैं आपको दो दिन की बात बताता हूँ | एक तो मेरा best दिन था | उस दिन मैंने और ध्रुव ने साथ में पेंटिंग करी थी | ध्रुव ने इतनी अच्छी पेंटिंग बनायीं थी के मैं तो shock हो गया था ! और एक और दिन मैंने ध्रुव को छतरी वाला park में अपना dance और stunts दिखाए | उस दिन जब ध्रुव वापस जा रहे थे तो मुझे अच्छा नहीं लग रहा था क्योंकि मुझे best friends वाली feeling आ रही थी |

ध्रुव ने मेरे साथ बहुत सारे magic tricks भी share किये है | मुझे ध्रुव ने Maths tricks भी सिखाई है | अब हमने English पर काम करना शुरू कर दिया है, मैं अभी vowels और consonants अच्छे से सिख रहा हूँ |

जैसे best friend, वैसे ही Mentor !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *